प. बंगाल में मंदिरों, मठों को निशाना बनाने की फिराक में आतंकी

नई दिल्ली। पिछले महीने श्रीलंका में ईस्टर के दौरान चर्च में हुए आत्मघाती हमले में ढाई सौ से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी। अब आतंकियों की नजर बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के बौद्ध मठ और मंदिरों पर टिकी हैं। एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक बांग्लादेश का आतंकी संगठन जमात उल मुजाहिदीन बौद्ध मंदिरों को निशाना बनाने की फिराक में है।
खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक जमात उल मुजाहिदीन ने महिला फिदायीनों की एक टोली बनाई है जिन्हें हमले की खास ट्रेनिंग दी गई है। ये हमले बांग्लादेश और भारत में पश्चिम बंगाल के बौद्ध मठों और मंदिरों में हो सकते हैं। इस हमले को अंजाम देने के लिए जो प्लान बनाया गया है वो बेहद भी खतरनाक है। खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक इन महिला आतंकियों को बौद्ध श्रद्धालु बनाकर मंदिरों और मठों में भेजे जाने की तैयारी चल रही है।
आत्मघाती हमले के लिए आतंकियों ने बुद्ध पूर्णिमा का दिन चुना है। अगर हम आतंकी संगठन जमात उल मुजाहिदीन बांग्लादेश की बात करे तो ये संगठन सबसे पहले 1998 में अस्तित्व में आया था इस्लामिक स्टेट की विचारधारा वाले इस ग्रुप पर बांग्लादेश में साल 2000 में एक बड़ी कार्रवाई हुई थी जिसमें इस गुट का लगभग सफाया कर दिया गया था। लेकिन 2010 में न्यू जमात उल मुजाहिदीन बांग्लादेश नाम से ये गुट फिर से सक्रिय हो गया और अपने को इस्लामिक स्टेट बांग्लादेश कहलवाने लगा।

1 Comment

Comments are closed.