कुष्ठ आश्रम पर कब्जेे का विरोध, हंगामा

– जिलाधिकारी से मुकालाकात करने आवास पर पहुंचे आश्रम के दर्जनों लोग
_______________________________________________________
बरेली (नमस्कार न्यूज)। शहर में 1950 से स्थापित कुष्ठ आश्रम पर कब्जा करने के विरोध में आज आश्रम के लोग सड़क पर उतर आए। जिलाधिकारी आवास के बाहर दर्जनों की संख्या में लोगों ने इकट्ठा होकर नाराजगी जताई हैं। डीएम के फोन करने पर एडीएम से बात की लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकला।
बताते चलें कि प्रेमनगर स्थित डीडीपुरम में 70 साल पुराना कुष्ठ आश्रम बना हुआ है। यहां रहने वाले पिन्टू ने बताया कि आश्रम में करीब 85 से 90 लोग रहते है जो कि कुष्ठ रोग से पीड़ित है। सुबह नगर निगम द्वारा आश्रम की बाउंड्री गिराई जा रही थी। इस बीच तोड़ फोड़ होते देख आश्रम के लोग मौके पर पहुंच गए और कार्य को रूकवाने की मांग करने लगे। बातचीत कर पर पता चला कि नगर निगम द्वारा यहां बिजली पोल लग रहे है जिसको लेकर जगह-जगह गड्ढे किये जा रहे है। आश्रम के लोगों ने विरोध किया तो टीम ने थाना पुलिस को सूचना देकर फोर्स बुला ली। लोगों का कहना है कि उन्हें किसी तरह का कोई नोटिस प्राप्त नहीं हुआ है। लोगों का कहना है कि प्रशासन द्वारा पहले उन्हें कुष्ठ रोग होने के चलते शहर से दूर रहने के लिए जमीन दी गई लेकिन अब प्रशासन दोबारा उसी जमीन पर कब्जा करने का प्रयास कर रहा है। आश्रम की रहने वाली राजकुमारी ने बताया कि आश्रम में ही वह खेती करती है। खेती में जो भी अनाज उगता है उससे सभी लोगों का पालन पोषण होता है। अब बिजली के पोल लगने से खेत तबाह हो रहे है। व्यापार मंडल व एनजीओ से जुड़े समाजसेवी सुनील खत्री ने बताया कि नगर आयुक्त ने टीम भेजकर कब्जा करने की कोशिश कर रहे है, अगर अतिक्रमण भी होता है तो पहले नोटिस दिया जाता है। गरीब व कुष्ठ रोगी होने का फायदा उठाया जा रहा है। कहा कि हल्की की आवाज करने पर फोर्स तैनात कर दिया गया जिससे डर कर सभी लोग पीछे हटने पर मजबूर हो गए है। उन्होंने बताया कि नगर निगम के अधिकारियों से शिकायत करने पर भी कोई कार्यवाही नहीं हो रही। इस दौरान पिन्टू, दिवाकर, काजल, लक्ष्मी, गुड्डी, राजकुमारी, हिमांशु, रोहित, कौशल सहित तमाम आश्रम के लोग उपस्थित रहे।
15 फुट ऊंचे कूड़े के ढेर हटाकर की खेती
बता दें कि जब कुष्ठ रोगियों को प्रशासन ने शहर से दूर आश्रम के लिए जमीन दी थी तो उस वक्त जमीन के चारो ओर 15 से 20 फूट ऊंचे कूड़े के ढेर थे। आश्रम के लोगों का कहना है कि उन्होंने मेहनत कर कूड़े के ढेर हटा कर मिट्टी उपजाऊ बनाई ताकि खेती की जा सके। इसके लिए उन्हें कई साल लग गए। खेती के बल पर ही उनके घर का चूल्हा जलता है और पालन पोषण होता है। उन्होंने बताया कि बिजली के पोल लगने से खेत में जगह जगह गड्ढे हो गए, अब खेती करने में काफी दिक्कत होगी। उधर, नगर आयुक्त की टीम बिजली के पोल के बहाने से आश्रम पर कब्जा करने कोशिश कर रही है। आला अधिकारियों से शिकायत करने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हो रही।
Attachments area