बिहार: नीतीश का साथ, फिर भी एनडीए को नुकसान

पटना। लोकसभा चुनाव के लिए सातों चरणों की वोटिंग पूरी हो चुकी है। अब सबकी निगाहें 23 तारीख को होने वाली मतगणना पर टिकी हुई हैं। बिहार में मुख्य मुकाबला कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेतृत्व वाले महागठबंधन और बीजेपी-जेडीयू वाले एनडीए गठबंधन के बीच में है। टाइम्स नाउ-वीएमआर के एग्जिट पोल के मुताबिक, बिहार में इस बार बीजेपी गठबंधन को कुल 25 सीटें और महागठबंधन को कुल 15 सीटें मिलती दिख रही हैं।
गौरतलब है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में एनडीए को बिहार में 40 में से 30 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। इस बार एनडीए को पांच सीटों का नुकसान होने का अनुमान है। आरजेडी और कांग्रेस गठबंधन को जहां पांच सीटों के फायदे के साथ 15 सीटें मिलने का अनुमान है। वहीं, एनडीए को कुल 25 सीटें मिलने की संभावना जताई जा रही है।
बिहार में वोट प्रतिशत की बात करें तो एनडीए को यहां भी नुकसान होता दिखाई दे रहा है। 2014 में जब जेडीयू एनडीए में नहीं थी, तब उसे 51.5 पर्सेंट वोट मिले थे। इस बार जेडीयू के साथ आने के बावजूद उसे वोट प्रतिशत में 2.98 पर्सेंट का नुकसान होने की संभावना है। वहीं, महागठबंधन जिसे 2014 में सिर्फ 32.8 पर्सेंट वोट मिले थे, उसे इस बार 42.78 पर्सेंट वोट मिलने की संभावना जताई जा रही है।
बिहार में मुख्य मुकाबला एनडीए (बीजेपी-जेडीयू-एलजेपी गठबंधन) और आरजेडी की अगुआई वाले महागठबंधन के बीच है। महागठबंधन में आरजेडी के अलावा कांग्रेस, आरएलएसपी, वीआईपी और जितन राम मांझी की हिंदुस्तान अवाम मोर्चा शामिल है। यहां बेगूसराय सीट पर जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह और आरजेडी के तनवीर हसन को टक्कर दे रहे हैं। पिछली बार जेडीयू एनडीए से अलग थी और आरएलएसपी एनडीए के साथ थी। लेकिन इस बार जेडीयू एनडीए में और आरएलएसपी महागठबंधन में है। बिहार में पहली बार लालू प्रसाद यादव की गैरमौजूदगी में चुनाव हो रहे हैं। चारा घोटाले के दोषी लालू जेल में सजा काट रहे हैं।
यूपी और पश्चिम बंगाल के बाद बिहार उन 3 राज्यों में था, जहां इस बार सभी सातों चरणों में चुनाव हुए। 40 सीटों वाले बिहार में 4 सीटों पर 11 अप्रैल, 5 सीटों पर 18 अप्रैल, 5 सीटों पर 23 अप्रैल, 5 सीटों पर 29 अप्रैल, 5 सीटों पर 6 मई, 8 सीटों पर 12 मई और बाकी 8 सीटों पर 19 मई को वोटिंग हुई। बात अगर पिछली बार यानी 2014 के प्रदर्शन की करें तो बिहार की 40 सीटों में से बीजेपी ने 22, कांग्रेस ने 2, एनसीपी ने 1, जेडीयू ने 2, एलजेपी ने 6, आरजेडी ने 4 और अन्य ने 3 सीटें जीती थीं।