राशिफल और पंचांग

राशिफल 12 जून 2019, बुधवार
सूर्योदय – प्रातः 05ः28 पर
सूर्यास्त – सायं 19ः10 पर

राहुकाल – दोपहर 12ः20 से 14ः05 तक
दिशाशूल – उत्तर दिशा
तिथि – दशमी तिथि सायं 18ः26 तक तत्पश्चात् एकादशी तिथि
नक्षत्र – हस्त नक्षत्र सुबह 11ः50 तक तत्पश्चात् चित्रा नक्षत्र
चन्द्रराशि – कन्या राशि रात्रि 23ः22 तक तत्पश्चात् तुला राशि
भद्रा – नहीं है
पंचक – नहीं है
पर्व – गंगादशहरा, बटुकभैरव जयन्ती, बालश्रम निषेध दिवस

मेष – सूर्य के प्रभाव से आर्थिक मामलों में कठिनाईयों का सामना करना होगा, संतानपक्ष में बाधा आयेगी, विद्याध्ययन में कमी होगी, बुध के प्रभाव से पराक्रम में वृ(ि होगी, भाई-बहनों का सहयोग मिलेगा, बुध शत्रु स्थान का स्वामी भी है जिससे अपने शत्रुओं पर भारी प्रभाव रखेंगे।
वृष – सूर्य के प्रभाव से माता तथा भूमि, मकान आदि का सामान्य सुख प्राप्ति होगा, शारीरिक सौन्दर्य में कुछ कमी होगी, सूर्य की सातवीं दृष्टि से जीवनसाथी तथा व्यवसाय के पक्ष में कुछ कमी होगी, बुध के प्रभाव से धन तथा कुटुम्ब की श्रेष्ठ शक्ति प्राप्ति होगी, परन्तु संतान पक्ष में कुछ कमी बनेगी।
मिथुन – सूर्य के प्रभाव से व्यय अधिक होगा परन्तु बाहरी स्थानों के सम्बन्ध से लाभ होगा, भाई-बहनों के सुख तथा पराक्रम के क्षेत्र मंे भी हानि उठानी पड़ेगी, मानसिक कमजोरी मिलेगी, बुध के प्रभाव से शारीरिक सौन्दर्य एवं स्वास्थ्य लाभ होगा, बुध की सातवीं दृष्टि से, जीवनसाथी से वैचारिक मतभेद होंगे।
कर्क – सूर्य के प्रभाव से आय के नए स्त्रोत बनेंगे परन्तु कौटुम्बिक सुख में कमी बनेगी, सूर्य की सातवीं दृष्टि से संतानपक्ष से लाभ मिलेगा तथा विद्या, बुद्धि के क्षेत्र में भी प्रवीणता तथा सफलता प्राप्त होगी, स्वक्षेत्री बुध के प्रभाव से व्यय अधिक होगा, बाहरी स्थानों से लाभ होगा, बुध की सातवीं दृष्टि से, शान्त स्वाभाव, पुरूषार्थ की शक्ति द्वारा शत्रुपक्ष से सफलता प्राप्त करेंगे।
सिंह – सूर्य के प्रभाव से पिता से वैमनस्य एवं राजकीय क्षेत्र में मान एवं प्रतिष्ठा की प्राप्ति होगी, अपनी उन्नति के लिए प्रयत्नशील होंगे, सूर्य की सातवीं दृष्टि से माता, भूमि एवं भवन का यथेष्ठ सुख प्राप्त होगा, बुध के प्रभाव से विवेक बुद्धि द्वारा यथेष्ठ लाभ अर्जित करेंगे तथा धन की वृद्धि के साथ ही कीर्ति की भी वृद्धि होगी।
कन्या – सूर्य के प्रभाव से भाग्य तथा धर्म के क्षेत्र में कमी एवं कठिनाई होगी, भाग्यबल द्वारा खर्च संचालन की शक्ति प्राप्ति होगी, भगवान के प्रति आस्था कम होगी, सूर्य की सातवीं दृष्टि से भाई-बहन से सहयोग प्राप्त होगा, बुध के प्रभाव से पिता द्वारा सुख की प्राप्ति होगी, राजकीय तथा व्यवसाय के क्षेत्र में यथे× सफलता प्राप्त होगी।
तुला – सूर्य के प्रभाव से स्वास्थ्य से सम्बन्धित परेशानी दूर होगी, कार्य में बाधा उत्पन्न होगी, कठिन परिश्रम द्वारा धनोपार्जन करेंगे, सूर्य की सातवीं दृृष्टि से कौटुम्बिक सुख की प्राप्ति होगी, व्ययेश बुध के प्रभाव से भाग्य तथा धार्मिक क्षेत्र में वृद्धि होगी, बाहरी स्थानों के सम्बन्ध से अच्छा लाभ होगा।
वृश्चिक – सूर्य के प्रभाव से जीवनसाथी पक्ष से कठिनाई उत्पन्न होगी, पत्नी के स्वास्थ्य का ध्यान रखें, सूर्य की सातवीं दृष्टि से शारीरिक सौन्दर्य में कमी, जल्दबाजी में निर्णय लेने से बचें, बुध के प्रभाव से पुरातत्व का लाभ होगा, बुध के अष्टमेश होने के कारण आमदनी के मार्ग में कठिनाई उत्पन्न होगी परन्तु परिश्रम द्वारा अमीरी ढंग का जीवन व्यतीत होगा।
धनु – सूर्य के प्रभाव से शत्रु पक्ष पर अत्याधिक प्रभावशाली बनेंगे, न्यायिक क्षेत्र के मामलों में सफलता प्राप्त होगी, धर्मिक कार्यों में रूचि कम होगी, सूर्य की सातवीं दृष्टि से जीवनसाथी का सहयोग प्राप्त होगा, बाहरी स्थानों के सम्बन्धों में अवरोध आयेगा, बुध के प्रभाव से अपनी विवेक बुद्धि द्वारा व्यवसाय के क्षेत्र में सफलता प्राप्त करेंगे, साथ ही पिता एवं राज्य द्वारा सहयोग एवं सम्मान मिलेगा।
मकर – अष्टमेश सूर्य के प्रभाव से संतान पक्ष से कष्ट मिलेगा, विद्या अध्ययन में परेशाीन होगी, स्वभाव से क्रोधी तथा चिन्ता बनेगी, सूर्य की सातवीं दृष्टि से लाभ प्राप्ति के लिये कठिनाईयों का सामना करना होगा, हर क्षेत्र में अवरोध आयेंगे, बुध के प्रभाव से शत्रुपक्ष पर विजय प्राप्त होगी, बाहरी स्थानों के सम्बन्ध से लाभ होगा।
कुम्भ – सूर्य के प्रभाव से माता, भूमि, मकान आदि का सुख कुछ कठिनाई के साथ मिलेगा, व्यवसाय के क्षेत्र में भी परेशानी आयेगी, सूर्य की सातवीं दृष्टि से पिता से सहयोग, राज्य से सम्मान एवं व्यवसाय से लाभ प्राप्त होगा, अष्टमेश बुध के प्रभाव से संतान पक्ष से सहयोग तथा विद्या, बुद्धि के क्षेत्र में नयें अवसर प्राप्त होंगे, अपनी विवेक बुद्धि द्वारा आय के क्षेत्र में विशेष सफलता प्राप्त करेंगे।
मीन – सूर्य के प्रभाव से भाई-बहनों से कुछ वैमनस्य होगा परन्तु पराक्रम की विशेष वृद्धि होगी, शत्रु पक्ष पर विजय प्राप्त करेंगे, सूर्य की सातवीं दृष्टि से अपने शारीरिक श्रम तथा प्रभाव के बल पर भाग्य क्षेत्र में उन्नति करेंगे परन्तु धार्मिक कार्यों में अवरोध उत्पन्न होंगे, बुध के प्रभाव से माता का विशेष सुख मिलेगा, जीवनसाथी पक्ष से सहयोग, सुख तथा मन उल्लास पूर्ण होगा।

ज्योतिर्विद्
पं. गगन भारद्वाज
7, आनन्द विहार कालोनी,
हार्टमैन तिराहा, नैनीताल रोड,
नाथ नगरी, बरेली
70600-89446