अस्‍थमा अटैक का कारण बन सकते हैं घर में मौजूद कॉकरोच और पालतू जानवर

यदि आप अस्‍थमा के रोगी हैं, तो आप जानते हैं कि ठंड के मौसम या मानसून के दौरान सांस लेना आपके लिए कितना मुश्किल होता है। हालांकि, मौसम की स्थिति ही केवल ऐसी चीजें नहीं हैं बल्कि प्रदूषण और धूल भी है जो आपके अस्थमा को ट्रिगर कर सकती हैं। यदि आप अपने आप को अगले अस्थमा के दौरे से बचाना चाहते हैं, तो इन असामान्य कारकों से बचें।

मोटापा

यदि आप मोटे हैं, तो आपको पहले ही अस्थमा का दौरा पड़ने का अधिक खतरा है। डॉक्टरों के अनुसार, जो लोग मोटे होते हैं उनके फेफड़ों के नीचे विस्तार होता है जो उन्हें कम सांसें लेने के लिए मजबूर करता है जिससे उन्हें जलन होने का खतरा होता है और यह अस्थमा के हमलों को ट्रिगर करता है।

लेडीबग्स:

लेडीबग्स अपने बचाव तंत्र के रूप में एक नारंगी तरल पदार्थ छोड़ते हैं और जब वह द्रव हवा के साथ मिल जाता है तो यह अस्थमा को प्रेरित कर सकता है। विशेष रूप से, एशियाई लेडीबग्‍स आपके अस्थमा को ट्रिगर करने के लिए जानी जाती है यदि आप इन बगों के प्रति संवेदनशील हैं।

पालतू जानवर:

यदि आप दमा के शिकार हैं, तो आपको अपने पालतू जानवरों के प्रति अपने प्यार को छोड़ना होगा। कई अध्ययनों के अनुसार, आपके पालतू जानवरों की फर, मृत कोशिकाएं, लार सब कुछ एक प्रोटीन का वहन करती है जो आपके अस्थमा की समस्या को और अधिक बदतर बना सकती है।

कॉकरोच

एलर्जी के कारण अस्थमा हो सकता है और कॉकरोच के शरीर के अंगों, लार और कचरे में प्रोटीन होता है जो एलर्जी का कारण बन सकता है। यदि आप दमा के शिकार हैं, तो आपको अपने घर को जितना संभव हो सके कॉकरोच मुक्त रखना चाहिए।

प्लास्टिक

पर्यावरण की बेहतरी की दिशा में अपने हिस्से को योगदान करने के लिए प्लास्टिक के उपयोग से बचें, बल्कि यह भी कि यदि आप इस बीमारी से पीड़ित हैं, तो यह आपके अगले अस्थमा के दौरे का कारण बन सकता है।