वर्ल्ड कप में पाकिस्तान को मिली निराशा के बाद शोएब मलिक ने लिया संन्यास

लंदन। पाकिस्तान के बल्लेबाज शोएब मलिक ने बांग्लादेश के खिलाफ आईसीसी विश्व कप मुकाबले में टीम की जीत के बाद एकदिवसीय क्रिकेट से संन्यास की पुष्टि की, लेकिन वह टी20 क्रिकेट में खेलना जारी रखेंगे। मलिक ने 2016 में ही टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। मलिक को विदाई मैच खेलना का मौका नहीं मिला जो इस प्रारूप में 16 जून को भारत के खिलाफ आखिरी बार मैदान में उतरे थे। मलिक ने पिछले साल ही कहा था कि वह विश्व कप के बाद एकदिवसीय से संन्यास ले लेंगे और लार्ड्स के मैदान पर बांग्लादेश के खिलाफ टीम की 94 रन की जीत के बाद उन्होंने इसकी पुष्टि भी कर दी।
मौजूदा विश्व कप में तीन मैचों में दो बार शून्य पर आउट होने के बाद टीम से बाहर किये गये मलिक ने कहा कि मैं एकदिवसीय क्रिकेट से संन्यास ले रहा हूं। मैं निराश हूं क्योंकि मैं उस प्रारूप को छोड़ रहा हूं जो मुझे सबसे ज्यादा पसंद है लेकिन इससे मुझे अपने परिवार के साथ अधिक समय बिताने और अगले साल होने वाले ट्वेंटी 20 विश्व कप पर ध्यान केंद्रित करने का मौका मिलेगा। भारतीय टेनिस सनसनी सानिया मिर्जा से शादी करने वाले मलिक ने 287 एकदिवसीय में नौ शतकीय पारी की मदद से 7,534 रन बनाये और ऑफ स्पिन गेंदबाजी से 158 विकेट भी चटकाए। उन्होंने पाकिस्तान के लिए 41 एकदिवसीय में कप्तानी भी की है।
मलिक ने कहा कि उन्हें निराशा है कि उनका करियर निम्न स्तर पर खत्म हो रहा है। उन्होंने कहा कि एक सीनियर खिलाड़ी के रूप में मैं अपनी टीम को विश्व कप जीतने में मदद करना चाहता था, लेकिन कई बार चीजें आपके मुताबिक नहीं होती हैं और यह क्रिकेट का हिस्सा है। मलिक ने कहा कि मैंने कभी नहीं सोचा था कि पाकिस्तान के लिए 20 साल खेलूंगा लेकिन जब आप कड़ी मेहनत और ईमानदारी के साथ खेलते हैं तो आप सबसे अच्छा हासिल करते हैं और मेरे साथ यही हुआ। उन्होंने कहा कि मैं अपने वनडे करियर से संतुष्ट हूं और चैंपियंस ट्रॉफी जीतना मेरे वनडे करियर का मुख्य आकर्षण रहा है। पाकिस्तान ने 2017 में इंग्लैंड में ही चैम्पियन्स ट्राफी का खिताब जीता था।