राशिफल और पंचांग

राशिफल 11 जुलाई 2019, गुरुवार
सूर्योदय – प्रातः 05ः36 पर
सूर्यास्त – सायं 19ः13 पर

राहुकाल – दोपहर 14ः10 से 15ः54 तक
दिशाशूल – दक्षिण दिशा
तिथि – दशमी तिथि 11-12/7/2019 रात्रि 01ः02 तक तत्पश्तचात् एकादशी तिथि
नक्षत्र – स्वाति नक्षत्र दोपहर 15ः54 तक तत्पश्चात् विशाखा नक्षत्र
चन्द्रराशि – तुला राशि
शुभसमय – अभिजित सुबह 11ः58 से दोपहर 12ः54 तक
भद्रा – नहीं है
पंचक – नहीं है
पर्व – विश्व जनसंख्या दिवस

मेष – राहु के प्रभाव से पराक्रम तथा भाई-बहन की शक्ति में विशेष वृद्धि होगी परन्तु वैचारिक मतभेद रहेगा, युक्तबल में प्रवीण होंगे, भीतरी रूप से कमजोरी का अनुभव करने के बावजूद भी प्रकट रूप में बड़ी दिलेरी, हिम्मत तथा साहस का परिचय देंगे।
वृष – राहु के प्रभाव से अनेक युक्तियों एवं चतुराईयों द्वारा अपने धन की वृद्धि करेंगे परन्तु कभी-कभी वह कुछ कठिनाईयों का भी अनुभव करेंगे, कुटुम्ब तथा धन की वृद्धि होगी परन्तु इन दोनों ही पक्षो में समय-समय पर संघर्षों का सामना करना पड़ेगा।
मिथुन – राहु के प्रभाव से जातक का शरीर लम्बा तथा प्रभावशाली होगा, विवेकी, गुप्तयुक्ति सम्पन्न तथा प्रातिष्ठा पाने वालेे होंगे, उतावलेपन-जल्दबाजी से बचें, अपनी उन्नति के लियें कष्टसाध्य कर्मों को करेंगे, लम्बी-चैड़ी बातें बनायेंगे, स्वार्थी तथा अपनें युक्ति बल पर धन एवं सम्मान प्राप्त करेंगे।
कर्क – उच्च के राहु के प्रभाव से व्यय अधिक रहेगा परन्तु बाहरी स्थानों के सम्बन्ध से गुप्त युक्तियों के बल पर लाभ एवं शक्ति की प्राप्ति होगी, बाहरी स्थानों से विशेष सम्मान एवं प्रभाव प्राप्त करेंगे, गुप्त कमजोरियों को प्रकट नहीं होने देंगे, बुद्धिमानी एवं चतुराई से उन्नति एवं सफलता प्राप्त करेंगे।
सिंह – राहु के प्रभाव से आमदनी के मार्ग में विशेष सफलता मिलेगी, आकस्मिक धन की भी प्राप्त होगी, साहस तथा परिश्रम के बल पर लाभ के क्षेत्र को बढ़ायेंगे, कभी-कभी हानि तथा परेशानी भी उठानी पड़ेगी, भाई-बहनों से मतभेद रहेगा, पराक्रम में कमी रहेगा।
कन्या – राहु के प्रभाव से पिता के साथ संघर्ष रहेगा तथा उन्नति प्राप्त करेंगे, राजकीय क्षेत्र में चातुर्य एवं युक्तिबल पर सम्मान की प्राप्ति होगी, गुप्त युक्तियों द्वारा व्यवसाय में क्षेत्र में भी पर्याप्त सफलता प्राप्त होगी, विशेष संकटों का सामना भी करना पड़ेगा परन्तु बाद में स्थिति ठीक हो जायेगी।
तुला – राहु के प्रभाव से गुप्त युक्तियों के बल पर भाग्य की विशेष वृद्धि होगी, धार्मिक कार्यों में भी सतर्कता पूर्वक पालन करेंगे, भाग्योन्नति में कभी-कभी बाधा भी उत्पन्न होगी, शारीरिक सौन्दर्य का ध्यान रखें, अपमान से बचें, विद्या, बुद्धि तथा संतान के पक्ष से सावधानी बरतें।
वृश्चिक – राहु के प्रभाव से चले आ रहे रोग से मुक्ति मिलेगी, वाहन हल्कें चलाएं, भाई-बहनों से वैचारिक मतभेद रहेगा, कोई नवीन समाचार मिलेगा, बड़ी शान-शौकत रहेगी परन्तु कभी-कभी हानि भी उठानी पड़ेगी और पेट, कमर दर्द तथा सिर में विकार भी होगा तथा प्रसिद्धि प्राप्त करेंगे।
धनु – राहु के प्रभाव से जीवनसाथी से विशेष शक्ति प्राप्त होगी परन्तु किसी न किसी मतभेद के कारण पारिवारिक जीवन में उथल-पुथल होगी, व्यवसाय की वृद्धि के लिए अनेक प्रकार के उपाय तथा साधन का सहारा लेंगे, आय के साधन में परेशानी होगी, उधार से बचें, जल्दबाजी में निर्णय लेने से बचें।
मकर – राहु के प्रभाव से शत्रुपक्ष पर अपना विशेष प्रभाव रखेंगे, न्यायिक क्षेत्र के मामलों में विजय एवं सफलता प्राप्त होगी, जल्दबाजी में किसी पर भी भरोसा न करें, कूटनीतिज्ञ तथा विवेकी होंगे, शारीरिक बीमारियों का शिकार होने से बचें, शत्रु भय से बचें, घर से दूर जाकर भाग्योदय होगा।
कुम्भ – राहु के प्रभाव से संतान पक्ष से कुछ कष्ट पाने के उपरान्त सहयोग भी प्राप्त करेंगे, विद्या तथा बुद्धि के क्षेत्र में विशेष सफलता मिलेगी, भीतरी कमजोरी को छुपाने का विशेष गुण होगा तथा प्रकट रूप में प्रभावशाली होंगे, चतुर एवं मानसिक शक्ति से सम्पन्न होंगे, वाणी कटुता के कारण कुछ हानि भी होगी।
मीन – राहु के प्रभाव से माता का विशेष सुख एवं सहयोग प्राप्त होगा, भूमि, मकान एवं घरेलू सुख की अपनी गुप्त युक्तियों एवं परिश्रम के बल पर उन्नति करेंगे, सुख के साधनों की आकस्मिक प्राप्ति होगी, मन के भीतर कभी-कभी अशान्ति का अनुभव भी करेंगे, माता के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें, वाहन हल्के चलायें।

ज्योतिर्विद्
पं. गगन भारद्वाज
आत्मज पं. राजेगुरु जी ;ज्योतिषाचार्यद्ध
7, आनन्द विहार कालोनी,
हार्टमैन तिराहा, नैनीताल रोड,
नाथ नगरी, बरेली
70600-89446