बीपी और डायबिटीज की देसी दवा है जामुन

गर्मियों में लोग आम के अलावा जामुन खाना भी बहुत पसंद करते हैं। खट्टे-मीठे स्वाद वाला वाला यह फल खाने में जितना स्वादिष्ट होता है उतना ही सेहत के लिए फायदेमंद भी होता है। डायबिटीज मरीजों के लिए तो यह किसी वरदान से कम नहीं है। इतना ही नहीं, इसका सेवन आपकी खूबसूरती में चार-चांद लगाने का काम भी करता है। चलिए आज हम आपको जामुन के कुछ ऐसे फायदे बताते हैं, जिसे जानने के बाद आप इसे रोजाना खाना शुरू कर देंगे।

इसमें 62 कैलोरी के अलावा 0.7 ग्राम फैट होता है। इसके अलावा इसमें 0% कोलेस्ट्रॉल, 85% पानी, 1.4 mg सोडियम, 233.3 mg पोटेशियम, 14% कार्बोहाइड्रेट, 32% डाइटरी फाइबर, 7g शुगर, 4% प्रोटीन, 6% विटामिन ए, 50% विटामिन सी, 4% कैल्शियम, 4% आयरन और 7% मैग्निशियम होता है।

एंटीऑक्सीडेंट, एंटीबैक्टीरियल और एंटी कैंसर गुणों से भरपूर जामुन शरीर में कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकता है, जिससे आप इस बीमारी से बचे रहते हैं।

इसके बीजों का पाउडर बनाकर रोजाना गुनगुने पानी के साथ खाएं। इससे शुगर लेवल कंट्रोल में रहेगा। साथ ही इसमें शुगर का मात्रा ना के बराबर होती है, जिसके कारण डायबिटीज मरीज इसका सेवन बिना किसी डर के कर सकते हैं।

अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो रोजाना इसका सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है क्योंकि यह ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में भी काफी मददगार है।

इस मौसम में पेट से जुड़ी समस्याएं आम देखने को मिलती है लेकिन जामुन का सेवन पाचन क्रिया को मजबूत करता है, जिससे आप एसिडियी, कब्ज और दस्त जैसी परेशानियों से बचे रहते हैं।

जामुन का सेवन करने से लिवर डिटॉक्स होता है। साथ ही यह शरीर में खून की कमी को भी पूरा करता है और ब्लड सर्कुलेशन को भी बेहतर बनाता है।

इसमें एंथोसाइनिडिंस, ऐलेजियेक एसिड और एंथोसायनिंस जैसे पोषक तत्व होते हैं जो धमनियों के कार्यों को बेहतर बनाते हैं। इससे आप दिल की बीमारियों से बचे रहते हैं।

जामुन के बीजों से बने पाऊडर को रोजाना गुनगुने पानी के साथ लेने से किडनी स्टोन की समस्या भी दूर होती है। आप चाहे तो इसके पाऊडर को दही के साथ भी खा सकते हैं।