प्रदूषण से लड़ने में मदद करती है ब्रोकोली

नई दिल्ली। हर साल की तरह इस साल भी दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ता ही जा रहा है। इसी हानिकारक हवा के कारण ही यहां रह रहे नागरिकों में सांस लेने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। प्रदूषण से लड़ने के लिए लोगों के लिए डीटॉक्स, क्लीनिंग, प्राकृतिक उपाय गो-टू-हैक बन गए हैं।

इतना ही इस हानिकारक प्रदूषण में आपके फेफड़े अब पूरी तरह से एयर प्यूरिफायर और फेस मास्क के भरोसे हैं। ये उपाय महंगे ज़रूर हैं लेकिन फायदेमंद भी हैं। इसके साथ ही ये भी ज़रूरी है कि आप अपने आहार में सही पोषक तत्वों को शामिल करें जो आपके सिस्टम को साफ करने के साथ ही प्राकृतिक और सक्रिय रूप से घातक प्रदूषण से लड़ सके।

यहां तक कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने भी लोगों को स्वस्थ रहने के कुछ टिप्स दिए। उन्होंने ट्वीट कर लोगों को गाजर खाने की सलाह दी है और कहा है कि इससे प्रदूषण से होने वाली बीमारियों से बचा जा सकता है। गाजर के साथ ही उन्होंने ब्रोकोली का भी नाम लिया था।

ब्रोकोली कई तरह के पोषक तत्वों से भरपूर होती है। इसे सूपरफूड कहना ग़लत नहीं है, इसमें फाइबर की बड़ी मात्रा होती है, जो पाचन क्रिया को मज़बूत करता है और साथ ही टॉक्सिन्स से लड़ता भी है। वो टॉक्सिन्स जो आपके शरीर में हवा, धूल, खाने, या फिर प्रदूषण से आ जाते हैं।

पोषक तत्वों से युक्त, ब्रोकोली अच्छे एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन-ए, बीटा-कैरोटीन, बी कॉम्प्लेक्स, फोलिक एसिड जैसे खनिजों की आपूर्ति करता है जो इंफ्लामेशन, लगातार हो रही बीमारियां और सेल मेम्ब्रेन को भी मज़बूत करते हैं। इसके साथ ही ये ब्लड शुगर लेवेल को बनाए रखता है। जो आपको कई तरह की जानलेवा बीमारियों, कैंसर से बचाता है।

ब्रोकोली कुछ प्रदूषकों को शरीर से बाहर करने की क्षमता रखती है। न सिर्फ इसके स्‍प्राउट्स बल्कि डंठल में भी एक घटक पाया जाता है जो शरीर के लिए अच्‍छा माना जाता है। चीन में हुए एक अध्ययन में पाया गया कि ब्रोकोली के स्‍प्राउट्स डीटॉक्स और प्रदूषण से लड़ते हैं। तो इसलिए आप ब्रोकोली को भी अपने आहार में जगह दे सकते हैं।