करतारपुर पर पाकिस्तान की खराब नीयत

  • चन्द्रकान्त त्रिपाठी

करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन होने में कुछ ही समय शेष है। लेकिन पाकिस्तान के रुख नेे कई आशंकाओं को जन्म दे दिया है। पाकिस्तान ने करतारपुर पर जो पंजाबी गाने का वीडियो रिलीज किया उससे यह शंका और बलबती होती है। वीडियो फुटेज में खालिस्तानी अलगाववादी नेता जनरैल सिंह भिंडरवाला, मेजर जनरल शाबेग सिंह और अमरीक सिंह खालसा के पोस्टर नजर आने पर ये आशंका स्वाभाविक है। जरनैल सिंह भिंडरावाले एक खालिस्तानी समर्थक नेता था, जिसने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। वहीं अमरीक सिंह खालसा भी खालिस्तान समर्थक था, जिसने ऑल इंडिया सिख स्टूडेंट फेडरेशन को चलाया था। ऑपरेशन ब्लूस्टार के वक्त शाहबेग ने भिंडरावाले का साथ दिया था। बता दें कि जून 1984 में स्वर्ण मंदिर को अलगावदियों से मुक्त कराने के लिए भारतीय सेना ने ऑपरेशन ब्लू स्टार चलाया था जिसमें ये तीनों मारे गए थे। समझने की बात है कि इन अलगाववादियों के प्रयोग के पीछे पाकिस्तान की मंशा क्या है ? पाकिस्तान सच में करतारपुर के जरिए सिख समुदाय के प्रति सम्मान व्यक्त करना चाहता है या उसका इरादा कुछ और है।

एक ऐसे समय में जब भारत की सरकार आतंकवाद या फिर आतंक के किसी भी स्वरुप के प्रति बेहद गंभीर हो, पाकिस्तान से इस तरह के विडियो ने ये साफ साफ बता दिया है कि कश्मीर पर फेल होने के बाद पाकिस्तान अब खालिस्तानी आतंकियों को अपने विडियो में दिखा कर हार्डलाइनर सिखों की सहानुभूति हासिल करना चाहता है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी कहा कि करतारपुर साहिब खुलने पर एक सिख के तौर पर मैं काफी खुश हूं, सिर्फ मैं नहीं हर सिख आज खुश है। लेकिन पाकिस्तान की नीयत पर शक होता है, क्योंकि उन्होंने 70 साल बाद ऐसा किया है।

देश की रक्षा एजेंसियां पहले ही सावधान कर चुकी हैं। जैसी आशंका है माना यही जा रहा है कि आज नहीं तो कल पाकिस्तान अपना असली चेहरा दिखा ही देगा। इंटेलिजेंस ने दावा किया है कि पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में आतंकियों को प्रशिक्षित करने का काम शुरू हो गया है।

करतारपूर कॉरिडोर मामले में जो बात सबसे ज्यादा दिलचस्प, साथ ही विचलित करने वाली है वो है- पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का नवजोत सिंह सिद्धू पर इतना प्यार उड़ेलना। आशंका जताई जा रही है कि एक बहुत ही सोची समझी रणनीति के तहत पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान सिद्धू से नजदीकियां बढ़ा रहे हैं। इमरान खान शपथ ले भी नहीं पाये थे कि वहीं मौजूद नवजोत सिंह सिद्धू को पाकिस्तानी सेना के जनरल ने बता दिया कि हम करतारपुर कॉरिडोर खोल रहे हैं। दूसरे करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के तहत जो विडियो पाकिस्तान ने बनाया है उसमें नवजोत सिंह सिद्धू भी दिखाई पड़ रहे हैं। इसका क्या मतलब निकाला जाए ?

करतारपुर कॉरिडोर सिखों ही नहीं सभी भारतीयों के लिए गौरव और आस्था का स्थान है, लेकिन पाकिस्तान की मंशा से सावधान रहना होगा। कश्मीर पर पूरी दुनिया से फटकार खाने के बाद वह किसी भी हद तक जा सकता है।

1 Comment

  1. करतारपुर कॉरिडोर को लेकर जो बातें हो रही हैं और जो पोस्टर विवादित है समय आने पर सब हल हो जाएगी और इसका खामियाजा भी पाकिस्तान को ही भुगतना होगा।

Comments are closed.