प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- सरकार का ज्यादा दखल उद्योगों के बढ़ने की रफ्तार रोकता है

धर्मशाला। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को धर्मशाला में ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा- बेवजह के नियम कायदे, सरकार का बहुत ज्यादा दखल कहीं न कहीं उद्योगों के बढ़ने की रफ्तार को रोकता है। मुझे खुशी है कि हिमाचल प्रदेश सरकार सही दिशा में काम कर रही है। राज्यों में यह स्पर्धा जितनी बढ़ेगी उतना ही हमारे उद्योग भी ग्लोबल प्लेटफाॅर्म पर कॉम्पीट करने लायक होंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले इस प्रकार के इन्वेस्टर समिट देश के कुछ ही राज्यों में हुआ करते थे। यहां अनेक ऐसे साथी मौजूद हैं, जिन्होंने पहले की स्थितियां देखी हैं। मोदी ने कहा- अब स्थितियां बदल रही हैं। इसकी एक गवाह हिमाचल में हो रही, समिट भी है। पहले राज्यों के बीच निवेशकों को आकर्षित करने के लिए यह होड़ चलती थी कौन सा राज्य ज्यादा चैरिटी करेगा, कौन ज्यादा इनसेंटिव देगा। कौन जमीन सस्ते में देगा। यह स्पर्धा चलती रहती है। लेकिन अनुभव यह कहता है कि इस स्पर्धा ने वह परिणाम नहीं दिए जो अपेक्षित थे।

उन्होंने कहा- तब इन्वेस्टर यह इंतजार करते थे कि कोई राज्य कब क्या छूट देगा, इसलिए निवेशक राज्यों में निवेश रोक देते थे। लेकिन, पिछले कुछ समयम में इस स्थिति में परिवर्तन आया है। अब राज्यों को समझ आने लगा है कि स्पर्धा न निवेशकों को आकर्षित करती हैं न ही उद्योगों का भला करती हैं।

इससे पहले हिमाचल सरकार की ओर से करवाई जा रही इस दो दिवसीय मीट में देश-विदेश के दर्जनों इन्वेस्टर्स, कई देशों के राजदूत और उद्योगपति पहुंचे। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कार्यक्रम स्थल पहुंचकर विदेशी मेहमानों से मुलाकात की। मीट की ब्रांड एंबेस्डर फिल्मस्टार यामी गौतम भी पहुंचीं।

राज्य सरकार ने एक दिन पहले निवेशकों के साथ 3000 करोड़ के एमओयू साइन किए। इसमें औद्योगिक क्षेत्र में 1500 करोड़, आईटी सेक्टर में 1000 करोड़ और पर्यटन क्षेत्र में 475 करोड़ रुपए है। इससे प्रदेश में करीब 2000 से अधिक युवाओं के लिए रोजगार के अवसर बनेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संदेश में हिमाचल में पर्यटन, औद्योगिक विकास, एयर कॉनेक्टिविटी को बढ़ावा देने पर बल दिया। उन्होंने लिखा- हिमाचल प्रदेश में पर्यटन और खेती को मजबूती देने के साथ तेज औद्योगिक विकास पर भी बल दिया जा रहा है। नेक्स्ट जेनरेशन के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर एयर, हाइवे, रेलवे कनेक्टिविटी को प्रधानमंत्री ने अपनी प्राथमिकता में बताया है।

अब प्रदेश के छोटे कारोबारी विदेशों में भी ऑनलाइन पोर्टल अमेजन के माध्यम से सामान बेच सकेंगे। प्रदेश सरकार के साथ चार समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। अमेजन बुनकरों और कारीगरों को शिक्षित और प्रशिक्षित करेगा। इसके तहत मनाली, सैंज, रोपा और सेरा जैसे समूहों से लोकप्रिय हथकरघा उत्पादों को बढ़ाने में मदद करेगी।