अब प्रतापगढ़ में भड़के वकील, एसडीएम को जीप में बनाया बंधक

प्रतापगढ़। देश की राजधानी दिल्ली के बाद अब उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में भी वकीलों के भड़कने की खबर आई है। गुरुवार को यहां के लालगंज तहसील परिसर में अधिवक्ता संघ और तहसील प्रशासन के बीच समस्याओं के निस्तारण के लिए बैठक हो रही थी। इसी दौरान एसडीएम विनीत उपाध्याय ने आवेश में आकर वकीलों को जाहिल और गंवार कह दिया, इस पर बात बिगड़ गई। आरोप है कि एसडीएम ने वकीलों पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी जिससे वकील नाराज हो गए। मामला बिगड़ता देख एसडीएम बैठक से उठ गए। वो अपनी गाड़ी में बैठकर तहसील से बाहर जाने लगे। तभी अचानक वकीलों ने उनकी गाड़ी को घेर लिया और विरोध में नारेबाजी करने लगे।

बंधक बना लिए जाने पर एसडीएम विनीत उपाध्याय गाड़ी का शीशा बंद कर किताब पढ़ते रहे। करीब दो घंटे तक एसडीएम को वकीलों ने घेरे रखा। वहीं वकीलों ने डीएम को पूरे प्रकरण की जानकारी देते हुए एसडीएम को हटाने की मांग की। वकीलों का आरोप है कि बातचीत के दौरान एसडीएम अपना आपा खो बैठे और आवेश में आकर उन्होंने वकीलों को जाहिल और गंवार कह दिया।

यह सुनते ही वहां मौजूद वकील भड़क गए और उन्होंने एसडीएम के टिप्पणी के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। जिसके बाद जिलाधिकारी (डीएम) ने वकीलों को उनकी समस्याओं के निस्तारण के साथ मामले की जांच कराने का आश्वासन देकर शांत कराया। डीएम से आश्वासन मिलने के बाद आक्रोशित वकील आखिरकार एसडीएम के वाहन के सामने से हटे।

वकीलों के हंगामे के बाद एसडीएम ने लालगंज पुलिस को मौके पर बुला लिया। पुलिस ने एसडीएम को वाहन समेत परिसर से निकालने का प्रयास किया, लेकिन वकीलों की नाराजगी देखकर वो बैकफुट पर आ गई।