गेस्ट हाउस केस वापस लेने पर शिवपाल बोले- 9 महीने पहले ही हो चुका है खत्म

भदोही। बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की सुप्रीमो मायावती द्वारा गेस्ट हाउस मामले में केस वापसी पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल यादव ने कहा कि यह मामला नौ महीने पहले ही कोर्ट से खत्म हो चुका था। उन्होंने गेस्ट हाउस कांड को ही झूठा ठहरा दिया और कहा कि जब यह घटना हुई थी तब वो मौके पर मौजूद ही नहीं थे। मामले में झूठी रिपोर्ट लिखवाई गई थी।

मीडिया से बातचीत में शिवपाल यादव ने कहा कि यह मामला 9 महीने पहले ही कोर्ट से खत्म हो चुका था। इसमें नया कुछ नहीं है। जब यह घटना हुई थी तब मैं उस समय था ही नही। झूठी रिपोर्ट लिखाई गई थी. पूरा मामला झूठा था।

बता दें कि बीएसपी नेतृत्व ने फरवरी में ही सुप्रीम कोर्ट में शपथ पत्र दाखिल कर केस वापस ले लिया था। इस मामले में समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव, शिवपाल यादव, आजम खान समेत पार्टी के कई नेताओं को आरोपी बनाया गया था। बताया जा रहा है कि जनवरी में लोकसभा चुनाव 2019 के लिए एसपी और बीएसपी के बीच हुए गठबंधन के बाद अखिलेश यादव ने मायावती से मुलायम सिंह यादव के खिलाफ केस वापस लेने का आग्रह किया था जिसके बाद बीएसपी नेतृत्व ने फरवरी में हलफनामा दाखिल कर केस वापस ले लिया। हालांकि इस बात को गुप्त ही रखा गया था।

बता दें कि वर्ष 1995 में मुलायम सिंह सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद लखनऊ के गेस्ट हाउस में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मायावती पर जानलेवा हमला किया था। इस घटना के बाद दोनों पार्टियों के बीच पुरानी अदावत चल रही थी। लेकिन लोकसभा चुनाव से पहले दोनों दल अपनी इस दुश्मनी को भुलाते हुए एक साथ आए थे। लेकिन लोकसभा चुनाव में मनमुताबिक परिणाम न आने पर मायावती ने अखिलेश के साथ गठबंधन तोड़ दिया था। लेकिन गठबंधन टूटने के बाद मुकदमा वापसी की अटकलों से सियासी गलियारों में सुगबुगाहट तेज हो गई है।