गडकरी ने शिवसेना के आरोपों से किया इंकार- ढाई-ढाई साल सीएम का कोई वादा नहीं था

मुम्बई। केन्द्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता नितिन गडकरी आज मुंबई पहुंचे हैं। वहां मीडिया से बात करते हुए गडकरी ने कहा कि भाजपा ने शिवसेना को ढाई-ढाई साल के लिए सीएम बनाने जैसा कोई वादा नहीं किया था। बता दें कि शिवसेना का कहना है कि आम चुनावों से पहले भाजपा और उनकी पार्टी के बीच बराबर सत्ता बंटवारे पर सहमति बनी थी। हालांकि भाजपा इससे साफ इंकार कर रही है। गडकरी ने ये भी कहा कि यदि भाजपा और शिवसेना के बीच मध्यस्थता की जरुरत पड़ती है तो वह इसके लिए तैयार हैं। वरिष्ठ भाजपा नेता ने महाराष्ट्र में सरकार गठन में संघ की कोई भूमिका होने से भी इंकार कर दिया।

कांग्रेस पार्टी भाजपा पर महाराष्ट्र में विधायकों की खरीद-फरोख्त करने की कोशिश का आरोप लगा रही है। पहले मीडिया में खबरें आयीं कि कांग्रेस ने दावा किया कि बीजेपी, शिवसेना के विधायकों को खरीदने का प्रयास कर रही है। अब कांग्रेस ने दावा किया है कि भाजपा उनके भी विधायकों को खरीदने का प्रयास कर रही है। कांग्रेस नेता नितिन राउत ने अपने एक बयान में कहा है कि उन्हें ऐसी खबरें मिली हैं कि कुछ कांग्रेसी विधायकों को भाजपा की तरफ से पैसों की पेशकश हुई है। कल हमारे एक या दो विधायकों को 25 करोड़ रुपए का ऑफर मिला। हम विधायकों की खरीद-फरोख्त की इस परिपाटी को रोकने का पूरा प्रयास करेंगे, जो कि कर्नाटक में शुरु हुई है।

बता दें कि भाजपा और शिवसेना के बीच अभी तक सरकार गठन को लेकर सहमति नहीं बन पायी है। महाराष्ट्र में पिछली सरकार का कार्यकाल 9 नवंबर को खत्म हो रहा है। ऐसे में ये अंतिम 24 घंटे काफी अहम हैं। वहीं शिवसेना नेता संजय राउत ने अपने एक बयान में भाजपा पर राज्य को राष्ट्रपति शासन की ओर ले जाने का आरोप लगाया है। संजय राउत ने अपने बयान में कहा कि ‘बीजेपी महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाना चाहती है। यह जनादेश का अपमान है।’