अजय कुमार लल्लू बोले, सीएम योगी की नाक के नीचे भ्रष्टाचार होता रहा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस कर उत्तर प्रदेश पावर कार्पोरेशन लिमिटेड में पीएफ घोटाला मामले में सरकार पर निशाना साधा। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि उत्तर प्रदेश की सरकार लगातार डीएचएफएल के मामले को सही ढंग से प्रदेश की जनता के सामने रखने के बजाए गुमराह कर रही है। 2600 करोड़ रुपये के निवेश की सही जानकारी नहीं दे रहे हैं। हमारी मांग थी कि ऊर्जा मंत्री, सीएमडी, एमडी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाए। लेकिन सरकार सिर्फ जीरो टॉलरेंस की बात करती रही। मुख्यमंत्री भी यही बाते दोहराते रहे लेकिन नाक के नीचे भ्रष्टाचार होता रहा।

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि हमने 9 सवाल पूछे थे। टेंडर प्रकिया क्यों नहीं अपनाई गई? पीएफ नियमों का पालन क्यों नहीं हुआ? बैठकों की सूचना बाहर की जाए. बैठक में कौन-कौन था? क्या वित्त विभाग से अनुमति ली गई?

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि ऊर्जा मंत्री कह रहे हैं कि संज्ञान नहीं था। जबकि 17 के बाद भी सारे निवेश किये गए। उन्होंने कहा कि पूरी सरकार मामले में लिप्त हैं। केवल विभागीय अधिकारियों की देखरेख में इतना बड़ा मामला नहीं हो सकता। उन्होंने पूछा कि क्या ऊर्जा मंत्री सिर्फ बैठकर देख रहे थे? प्रदेश की जनता को जवाब देना पड़ेगा। कर्मचारियों को जवाब देना पड़ेगा। उन्होंने दोहराया कि ऊर्जा मंत्री को बर्खास्त किया जाए।

वहीं ऊर्जा मंत्री द्वारा भेजी गई मानहानि की नोटिस के जवाब पर अजय कुमार लल्लू ने कहा कि मुझे नोटिस मुझे नही मिला है सिर्फ मीडिया के माध्यम से ज्ञात हुआ है। यदि नोटिस दिया है तो उसका विधिक जवाब दिया जाएगा।