बिजली विभाग: कार्य बहिष्कार और प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों पर सख्त सीएम योगी, होगी FIR

लखनऊ। यूपी पॉवर कारपोरेशन लिमिटेड (यूपीपीसीएल) में हुए पीएफ घोटाले को लेकर बिजली कर्मियों के 48 घंटे के कार्य बहिष्कार और प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अपनाया है। सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिजली कर्मियों के प्रदर्शन पर विभाग के अधिकारियों संग बैठक की। इस बैठक में अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी, डीजीपी ओपी सिंह और प्रमुख सचिव ऊर्जा मौजूद रहे।

बैठक में मुख्यमंत्री ने हड़ताल के दौरान उपद्रव करने वालों पर एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि जरूरत पड़ने पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की जाए। सीएम योगी ने निर्देश देते हुए कहा कि सरकारी संपत्ती और राजस्व का नुकसान न हो। हड़ताल और प्रदर्शन से आम आदमी को भी कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। सीएम ने पूर्व एमडी एपी मिश्रा के सिंडिकेट पर एक्शन के भी निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि एपी मिश्रा से जुड़े लोगों पर कड़ाई बरतें।

बता दें सूबे के 45 हजार बिजली कर्मचारी आज से दो दिन के कार्य बहिष्कार पर हैं। राज्य के बिजली कर्मी 2268 करोड़ रुपए के पीएफ घोटाले को लेकर हड़ताल कर रहे हैं। उनकी मांग है कि सरकार इस मामले की सीबीआई से जांच कराए। इसके साथ ही इनकी मांग है कि सरकार लिखित में आश्वासन दे कि डूबे हुए रुपए सुरक्षित रहेंगे। हड़ताल से व्यवस्था प्रभावित होने की आशंका है।