बैंकिंगः वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा- जरूरत पड़ी तो और भी बैंकों का मर्जर किया जा सकता है

नई दिल्ली। वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर का कहना है कि जरूरत पड़ने और भी बैंकों का एकीकरण (मर्जर) किया जा सकता है। एकीकरण के जरिए अंतरराष्ट्रीय स्तर के बैंक तैयार करने से 2024-25 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी का लक्ष्य हासिल करने में आसानी होगी। आईबीसी से बैंकों के 4 लाख करोड़ रुपए रिकवर हुए। सरकार ने पिछले साल 10 बैंकों को मर्ज कर 4 बैंक बनाने का ऐलान किया था। ठाकुर का कहना है कि सरकार ने बैंकों का मर्जर और पूंजीकरण सफलतापूर्वक किया। इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (आईबीसी) भी सफल रहा। इससे बैंकों के 4 लाख करोड़ रुपए के कर्ज की रिकवरी हुई है।
एलआईसी के आईपीओ से शेयर बाजार भी मजबूत होगा
एलआईसी के आईपीओ के बारे में ठाकुर ने कहा कि इससे पारदर्शिता बढ़ेगी, कंपनी में आम लोगों की हिस्सेदारी होगी और शेयर बाजार में भी मजबूती आएगी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक फरवरी को पेश बजट में ऐलान किया था कि सरकार एलआईसी की कुछ हिस्सेदारी आईपीओ के जरिए बेचेगी।