राशिफल 15 फरवरी 2020, शनिवार

सूर्योदय- प्रातः 07.00 पर
सूर्यास्त- सायं 18.07 पर
आयन- उत्तरायण
ऋतु- शिशिर ऋतु
माह- फाल्गुन
पक्ष- कृष्णपक्ष
तिथि- सप्तमी तिथि दोपहर 16.29 तक तत्पश्चात् अष्टमी तिथि
राहुकाल- सुबह 09.47 से 11.11 तक
दिशाशूल- पूर्व दिशा
नक्षत्र- विशाखा नक्षत्र 15-16/2/2020 प्रातः 05.08 तक तत्पश्चात् अनुराधा नक्षत्र
योग- वृद्धि योग दोपहर 14.04 तक तत्पश्चात् ध्रुव योग
करण- बव करण दोपहर 16.29 तक तत्पश्चात् कौलव करण
चन्द्रराशि- तुला राशि रात्रि 23.21 तक तक तत्पश्चात् वृश्चिक राशि
सूर्यराशि- कुम्भ राशि
शुभसमय- अभिजित दोपहर 12.13 से 12.57 तक
भद्रा- नहीं है
पंचक- नहीं है
गण्डमूल- नहीं है
पर्व- कालाअष्टमी

मेष- भूमि के क्रय-विक्रय में सतर्कता बरतें, विद्या के क्षेत्र में कठिनाईयां आयेंगी, भाग्यक्षेत्र में उन्नति मिलेगी, पिता की मान प्रतिष्ठा बढ़ेगी।

वृष- माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें, वाहन हल्के चलाएं, विद्या तथा संतान के पक्ष में वृद्धि एवं सुख प्राप्त होगा, आमदनी के स्त्रोत बनेंगे।

मिथुन- लापरवाही से बचें, भूमि-भवन-सम्पत्ति का सुख प्राप्त होगा, भाई-बहनों का सुख प्राप्त होगा, पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

कर्क- शत्रुपक्ष एवं झगड़े के मामलो में शान्तिपूर्ण तरिका अपनायें, बाहरी स्थानों के सम्बन्धों से लाभ होगा, माता तथा सुख के पक्ष में कुछ असंतोष होगा।

सिंह- व्यवसाय में कठिनाई आयेगी, धन एवं प्रतिष्ठा की वृद्धि होगी, कुटुम्ब के सुख में वृद्धि होगी, भाई- बहनों से मतभेद रहेगा, उदर रोग का ध्यान रखें।

कन्या- माता एवं स्त्री के सुख में कुछ परेशानीयाँ आयेगी, व्यवसाय के क्षेत्र में त्रुटि होगी, शत्रु पक्ष में प्रभाव स्थापित होगा, शारीरिक सौन्दर्य में वृद्धि होगी।

तुला- पिता से वैचारिक मतभेद रहेंगे, धर्मकार्य में स्वार्थ से बचें, आमदनी में विशेष वृद्धि होगी, वाणी कटुता से बचें, संतान पक्ष से कुछ असंतोष रहेगा।

वृश्चिक- धार्मिक क्षेत्र में मन नहीं लगेगा, यश की कमी रहेगी, निर्णय लेने में जल्दबाजी न करे, शत्रुपक्ष पर विजय प्राप्त होगी, कार्यक्षेत्र में वृद्धि होगी।

धनु- धार्मिक कार्यों का पालन करेंगे, स्त्री से कुछ कठिनाईयाँ आयेंगी, पिता के द्वारा सहयोग मिलेगा, मन में अनेक प्रकार के विचार आयेंगे।

मकर- स्वार्थ सिद्ध करने में चतुर, सुखी, धनी रहेंगे, भाग्य उन्नति में रूकावटें आयेंगी, भाई-बहनों से वैचारिक मतभेद रहेगा, बुद्धि तथा चार्तुय द्वारा उन्नति करेंगे।

कुम्भ- बाहरी स्थानो के सम्बन्ध से लाभ होगा, गुप्त युक्तियों से झगड़े-झंझट के मामलों में सफलात मिलेगी, संतान से वैचारिक मतभेद रहेगा।

मीन- विद्या अध्ययन के क्षेत्र में कठिनाईयाँ आयेगी, पिता के सुख में हानि होगी, वाद-विवाद से बचें, व्यय के सम्बन्ध में कष्टों का अनुभव होगा।

ज्योतिर्विद्
पं. गगन भारद्वाज

आत्मज स्व. पं. राजेगुरु जी ज्योतिषाचार्य
7, आनन्द विहार कालोनी,
हार्टमैन तिराहा, नैनीताल रोड,
नाथ नगरी, बरेली
70600-89446