भगवान राम से जुड़े स्थानों की परिक्रमा कराएगी रामायण सर्किट ट्रेन

नई दिल्ली। रेलवे होली के बाद रामायण सर्किट ट्रेन शुरू करने जा रहा है। यह ट्रेन भगवान राम से जुड़े स्थानों को जोड़ेगी। आईआरटीसी जल्द ही इसकी रूपरेखा जारी करेगा। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वी.के. यादव ने बताया कि इस सर्किट ट्रेन को इस कदर डिजाइन किया जा रहा है कि सफर के दौरान यात्रियों को तीर्थाटन का अनुभव कराया जा सके। ट्रेन के अंदर भजन-कीर्तन के ऑडियो और वीडियो की व्यवस्था की गई है।

यादव ने यह भी बताया कि वाराणसी से लखनऊ और इलाहाबाद के रास्ते इंदौर के लिए चलने वाले काशी-महाकाल एक्सप्रेस का उद्घाटन 16 फरवरी को होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी से इस हमसफर क्लास ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे। एसी बोगियों वाली यह ट्रेन 20 फरवरी से नियमित रूप से चलेगी। देश की तीसरी कॉरपोरेट ट्रेन होगीए जिसका संचालन तेजस की तरह आइआरसीटीसी के पास होगा।

ध्यान रहे कि यह ट्रेन तीन ज्योतिर्लिग वाराणसी में काशी विश्वनाथ, उज्जैन में महाकालेश्वर और इंदौर के पास ओंकारेश्वर को जोड़ेगी। ट्रेन सप्ताह में दो दिन लखनऊ और एक दिन प्रयागराज होकर चलेगी। ट्रेन में टूर पैकेज भी होगा

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन यादव के मुताबिक, ट्रेन नंबर 82401 मंगलवार और गुरुवार को दोपहर 2.45 बजे वाराणसी से चलकर शाम 7.05 बजे लखनऊ आएगी। यहां से कानपुर, बीना, भोपाल, उज्जैन होते हुए अगले दिन सुबह 9.40 बजे इंदौर पहुंचेगी। ट्रेन 82402 इंदौर से बुधवार व शुक्रवार सुबह 10. 55 बजे चलकर रात 11. 40 बजे कानपुर 1. 20 बजे लखनऊ होते हुए सुबह छह बजे वाराणसी पहुंचेगी।

ट्रेन 82403 काशी-महाकाल एक्सप्रेस प्रत्येक रविवार दोपहर 3.15 बजे वाराणसी से चलकर इलाहाबाद होते हुए अगली सुबह 9. 40 बजे इंदौर पहुंचेगी। जबकि 82404 एक्सप्रेस प्रत्येक सोमवार सुबह 10. 55 बजे इंदौर से चलकर रात 11. 40 बजे कानपुर, 2. 35 बजे इलाहाबाद होते हुए सुबह पांच बजे वाराणसी पहुंचेगी।