No Picture
यथार्थतः

अब कहां ताली ठोकेंगे नवजोत सिंह सिद्धू

चन्द्रकान्त त्रिपाठी नवजोत सिंह सिद्धू और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच लोकसभा चुनाव के समय से चला आ रहा टकराव सिद्धू के मंत्रिमंडल से इस्तीफे के रूप में सामने आया। अमरिंदर सिंह […]

No Picture
यथार्थतः

बच्चों का यौन उत्पीड़न और असफल समाज तंत्र

चन्द्रकान्त त्रिपाठी हमारे लिए इससे शर्मनाक बात और क्या होगी कि भारत में बच्चों के यौन उत्पीड़न की घटनाएं कम होने के बजाय बढ़ती ही जा रही हैं। इस मामले में सिस्टम की नाकामी देखकर […]

No Picture
यथार्थतः

‘गरीबी से मुक्ति’ रिपोर्ट सिर्फ शिगूफा भर है

चन्द्रकान्त त्रिपाठी शायद ही कोई साल ऐसा बीतता हो जब यह खबर नहीं आए कि भारत ने गरीबी दूर करने में और कामयाबी हासिल की। देश-विदेश स्थित संस्थानों के शोध अध्ययनों, सरकारी रिपोर्टों, विश्व बैंक […]

No Picture
यथार्थतः

कांग्रेस अध्यक्ष बनने के लिए किसी वरिष्ठ का आगे न आना

चन्द्रकान्त त्रिपाठी अगला कांग्रेस अध्यक्ष कौन होगा? इस सवाल का कोई उचित जवाब नहीं है क्योंकि कांग्रेस के वरिष्ठ कोई भी इच्छुक उम्मीदवार ढूंढ नहीं पा रहे जो राहुल गांधी से जिम्मेदारियां ले सके। हालांकि, […]

No Picture
यथार्थतः

हमने जीवनदायी नदियों को कूड़ेदान बना दिया

चन्द्रकान्त त्रिपाठी सूखा, इस शब्द से शुष्क और दरार से फटी जमीन और ऊपर चिलचिलाता मेघविहीन आसमान दिमाग में कौंधता है। बारिश गड़बड़ हो जाती है तो नदी-नाले, गांव के कुएं सब सूख जाते हैं। […]

No Picture
यथार्थतः

संसाधनों पर बोझ बनती जा रही है आबादी

चन्द्रकान्त त्रिपाठी बढ़ती आबादी सीमित संसाधनों पर बोझ बनती जा रही है। आबादी में हर साल लगभग 80 लाख की दर से बढ़ोतरी हो रही है। खाद्य संकट गहराने में बढ़ती आबादी की भूमिका जगजाहिर […]

No Picture
यथार्थतः

सड़कों पर जानलेवा सफर

चन्द्रकान्त त्रिपाठी यमुना एक्सप्रेस-वे पर सोमवार की भोर में हुए भीषण बस हादसे में 29 लोगों की मौत अत्यंत दुखदायी है। यूपी रोडवेज की एक डबल डेकर बस लखनऊ से दिल्ली जा रही थी। बीती […]

No Picture
यथार्थतः

कर्नाटकः नाटक है कि रुकता ही नहीं

चन्द्रकान्त त्रिपाठी कर्नाटक में सियासी संकट गहरा गया है। समस्या की शुरुआत बीते शनिवार को हुई, जब जेडीएस और कांग्रेस के 12 विधायकों ने अपनी विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। उसके बाद कांग्रेस के […]

No Picture
यथार्थतः

खामोशी से महामारी बनता जा रहा है ‘अवसाद’

चन्द्रकान्त त्रिपाठी मोटापा, टीबी, कैंसर और डायबिटीज जैसी बीमारियों को पीछे छोड़ते हुए ‘अवसाद’ देश में नई महामारी के रूप में पैर पसार रहा है। अवसाद ग्रस्त व्यक्ति खुद और अपने परिवार के लिए समस्या […]

No Picture
यथार्थतः

बजट में योजनाएं बहुत लेकिन कार्यान्वयन नीतियों का अभाव

चन्द्रकान्त त्रिपाठी सरकार 2014 से ही अपनी तमाम योजनाओं के बारे में वादे करती आ रही है कि वह साल 2019 तक ये कर देगी, वो कर देगी। अब नई कड़ी में 2024 तक पांच […]